• Home   /  
  • Archive by category "1"

Kalidas Hindi Essay

Kalidas Biography in Hindi

कालिदास का जीवन परिचय | Kalidas Biography in Hindi : कालिदास का जनम पहली से तीसरी शताब्दी के बीच ईस पूर्व माना जाता है। कालिदास संस्कृत भाषा के एक महान नाटककार और कवि थे। कालिदास शिव के भक्त थे। कालिदास नाम का शाब्दिक अर्थ है, “काली का सेवक“। उन्होंने भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार बनाकर रचनाएं की।

कलिदास अपनी अलंकार युक्त सरल और मधुर भाषा के लिये से जाने जाते हैं। उनके ऋतु वर्णन बहुत ही सुंदर हैं और उनकी उपमाएं बेमिसाल हैं। संगीत उनके साहित्य का प्रमुख है और रस का सृजन करने में उनकी कोई उपमा नहीं। उन्होंने अपने शृंगार रस प्रधान साहित्य में भी साहित्यिक सौन्दर्य के साथ-साथ आदर्शवादी परंपरा और नैतिक मूल्यों का समुचित ध्यान रखा है। उनका नाम सदा-सदा के लिये अमर है और उनका स्थान वाल्मीकि और व्यास की परम्परा शामिल हैं।

कालिदास के काल के विषय में काफी मतभेद है। पर अब विव्दानों की सहमति से उनका काल प्रथम शताब्दी ई. पू. माना जाता है। इस मान्यता का आधार यह है कि उज्जयिनी के राजा विक्रमादित्य के शासन काल से कालिदास का रचनाकाल संबध्द है।

किंवदन्ती है कि प्रारंभ में कालिदास मंदबुध्दी तथा अशिक्षित थे। कुछ पंडितों ने जो अत्यन्त विदुषी राजकुमारी विद्योत्तमा से शास्त्रार्थ में पराजित हो चुके थे। बदला लेने के लिए छल से कालिदास का विवाह उसके साथ करा दिया। विद्योत्तमा वास्तविकता का ज्ञान होने पर अत्यन्त दुखी तथा क्षुब्ध हुई। उसकी धिक्कार सुन कर कालिदास ने विद्याप्राप्ति का संकल्प किया तथा घर छोड़कर अध्ययन के लिए निकल पड़े और विद्वान बनकर ही लौटे।

जिस कृति कारण कालिदास को सर्वाधिक प्रसिध्दि मिली। वह है उनका नाटक ‘अभिज्ञानशाकुंतलाम’ जिसका विश्व की अनेक भाषाओँ में अनुवाद हो चुका है। उनके दुसरे नाटक ‘विक्रमोर्वशीय’ तथा ‘मालविकाग्निमित्र’ भी उत्कृष्ट नाट्य साहित्य के उदाहरण हैं।

उनके केवल दो महाकाव्य उपलब्ध हैं – ‘रघुवंश’ तथा ‘कुमारसंभव’ पर वे ही उनकी कीर्ति पताका फहराने के लिए पर्याप्त हैं। काव्यकला की दृष्टि से कालिदास का ‘मेघदूत’ अतुलनीय है। इसकी सुन्दर सरस भाषा, प्रेम और विरह की अभिव्यक्ति तथा प्रकृति चित्रण से पाठक मुग्ध और भावविभोर हो उठते हैं। ‘मेघदूत’ का भी विश्व की अनेक भाषाओं में अनुवाद हो चूका है। उनका ‘ऋतु संहार’ प्रत्येक ॠतु के प्रकृति चित्रण के लिए ही लिखा गया है।

कविकुल गुरु महाकवि कालिदास की गणना भारत के ही नहीं वरन् संसार के सर्वश्रेष्ठ साहित्यकारों में की जाती है। उन्होंने नाटक, महाकाव्य तथा गीतिकाव्य के क्षेत्र में अपनी अदभुत रचनाशक्ति का प्रदर्शन कर अपनी एक अलग ही पहचान बनाई।

कालिदास द्वारा की गयी छोटी-बड़ी कुल लगभग चालीस रचनाएँ हैं जिन्हें अलग-अलग विद्वानों ने कालिदास द्वारा रचित सिद्ध करने का प्रयास किया है। इनमें से मात्र सात ही ऐसी हैं जो निर्विवाद रूप से कालिदासकृत मानि जाती हैं: तीन नाटक: अभिज्ञान शाकुन्तलम्, विक्रमोर्वशीयम् और मालविकाग्निमित्रम्; दो महाकाव्य: रघुवंशम् और कुमारसंभवम्; और दो खण्डकाव्य: मेघदूतम् और ऋतुसंहार। इनमें भी ऋतुसंहार को प्रो॰ कीथ संदेह के साथ कालिदास की रचना स्वीकार करते हैं।

 

 

लेटेस्ट अपडेट व लगातार नयी जानकारियों के लिए हमाराफेसबुक पेजलाइक करे, आपका एक-एक लाइक व शेयर हमारे लिए बहुमूल्य है | अगर आपके पास इससे जुडी और कोई जानकारी है तो हमे publish.gyanpanti@gmail.com पर मेल कर सकते है |
Thanks!
(All image procured by Google images)

संस्कृत भाषा के विश्वविख्यात कवि और नाटककार कालिदास के व्यतिगत जीवन के संबध में निश्चित सुचना उपलब्ध नही है | उन्हें लोग बंगाल , उड़ीसा , मध्यप्रदेश या कश्मीर का निवासी बताते है | उनकी रचनाओं के आधार पर सामान्य मत उन्हें मध्यप्रदेश के उज्जैन का निवासी मानने के पक्ष में है | “कुमार सम्भव” नामक काव्य ग्रन्थ का पूरा परिवेश हिमालय है | अन्य रचनाओं में भी स्थान स्थान पर हिमालय का सजीव वर्णन पाया जाता है | इसके आधार पर कुछ विद्वानों का मत है कि कदाचित कालिदास का जन्म हिमालय प्रदेश में हुआ , पर काव्य रचना उन्होंने उज्जैन या उज्जैय्नी में रहकर ही की |

उनके समय के सम्बन्ध में भी बड़ा विवाद है | भिन्न-भिन्न विद्वान उनका काल ईसा पूर्व दुसरी शती से सातवी शती ईस्वी मानते है | बहुमत उन्हें गुप्त वंश के शासनकाल का मानता है | लोक-परम्परा कालिदास को 56 ईस्वी पूर्व के किसी विक्रमादित्य के नवरत्नों में बताती है पर इसका कोई एतेहासिक आधार नही है | सामान्य मत से उनकी जन्म तिथि 365 ईस्वी के आसपास मानी जाती है | कालिदास की सात रचनाये प्रसिद्ध है | “अभिज्ञानशकुन्तलम्” “विक्रमोर्यवशियम्” और “मालविकाग्निमित्र” (नाटक) “रघुवंश” “कुमार सम्भव” और “ऋतुसंहार” (काव्य ग्रन्थ) |

अभिज्ञानशाकुन्तल की गणना विश्व साहित्य की सर्वोत्तम कृतियों में होती है | इसमें कालिदास ने महाभारत की कथा को अपनी प्रतिभा से नया रूप दिया है | “विक्रमोर्यवशियम्” का कथानक पुर्रुरवा और उर्वशी से संबधित है और यह ऋग्वेद पर आधारित है | “मालविकाग्निमित्र” में शुंग वंश के राजा अग्निमित्र और उसकी प्रेयसी मालविका की प्रणय गाथा है | महाकाव्य रघुवंश में सूर्यवंशी राजाओं की विरुदावली के दर्शन होते है | “कुमार सम्भव” महाकाव्य में उमा और शिव के विवाह , कुमार कार्तिकेय के जन्म और तारकासुर के वध की कथा है |

मेघदूत में विरहाकुल यक्ष मेघो के माध्यम से अपनी प्रेयसी का संदेश भेजता है | “ऋतुसंहार” में जिसे कवि की प्रथम रचना माना जाता है कालिदास ने विभिन्न ऋतुओ में प्रेमी प्रेमिकाओं के मधुर मिल्न का वर्णन किया है | कालिदास के साहित्य में अनेक विशेषताए है | उन्होंने अपने समय तक प्रचलित सभी शैलियों की रचना की | उनकी भाषा सहज ,सुंदर और सरल है | अपनी रचनाओं में उन्होंने प्राय: सभी रसो का वर्णन सफलतापूर्वक किया है |

उपमा के तो वे संस्कृत साहित्य में अद्वितीय कवि माने जाते है | “उपमा कालिदासस्य” पद का प्रयोग इसी में मुहावरे की भाँती होता है | उनके ग्रंथो में तत्कालीन भारत की सामाजिक और शासकीय व्यवस्था , भूगोल , पशु पक्षी ,वनस्पति आदि का वर्णन स्थान स्थान पर मिलता है | कालिदास की कृतियों का संसार की अनेक भाषाओं में अनुवाद हुआ है | कालिदास के संबध में कई अविश्वसनीय कथाये प्रचलित है | एक के अनुसार में वे निपट मुर्ख थे और जंगल में पेड़ की उसी डाल को काट रहे थे जिस पर बैठे थे |

उन्हें पंडितो के वर्ग के देखा | ये पंडित विद्योत्तमा नाम की विदुषी राजकुमारी से शास्त्रार्थ में पराजित होकर आये थे | उन्होंने धोखे से कालिदास का विवाह विद्योत्तमा से करा दिया | जब विद्योत्तमा को उनके मुर्ख होने का पता चला तो उसने कालिदास को यह कहकर निकाल दिया कि मुझसे अधिक विद्वान बनने पर ही घर में प्रवेश मिल सकता है | अपमानित कालिदास ने काली के मन्दिर में कठिन तपस्या की और देवी के वरदान से वे शीघ्र परम विद्वान बन गये | यह भी कहा जाता है कि काली की इस कृपा के बाद ही उन्होंने अपना नाम कालिदास रखा था |

One thought on “Kalidas Hindi Essay

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *